बाल मजदूरी

Pictures presenting Child Labour in India

बाल मजदूरी बच्चों से लिया जाने वाला काम है जो किसी भी क्षेत्र में उनके मालिकों द्वारा करवाया जाता है। ये एक दबावपूर्णं व्यवहार है जो अभिवावक या मालिकों द्वारा किया जाता है। बचपन सभी बच्चों का जन्म सिद्ध अधिकार है जो माता-पिता के प्यार और देख-रेख में सभी को मिलना चाहिए, ये गैरकानूनी कृत्य बच्चों को बड़ों की तरह जीने पर मजबूर करता है। इसके कारण बच्चों के जीवन में कई सारी जरुरी चीजों की कमी हो जाती है जैसे- उचित शारीरिक वृद्धि और विकास, दिमाग का अनुपयुक्त विकास, सामाजिक और बौद्धिक रुप से अस्वास्थ्यकर आदि।

छोटी आयु के बच्चों को इस जानलेवा काम पर बलपूर्वक लगाया जाता है

यह कहानी पिछले पांच दशकों से बार-बार अब तक दोहराई जा रही है कोई भी निश्चित तौर पर यह कह सकने वाला नहीं है की इतने सालों में कितने लोग मौत में गए

इसकी वजह से बच्चे बचपन के प्यारे लम्हों से दूर हो जाते है, जो हर एक के जीवन का सबसे यादगार और खुशनुमा पल होता है। ये किसी बच्चे के नियमित स्कूल जाने की क्षमता को बाधित करता है जो इन्हें समाजिक रुप से देश का खतरनाक और नुकसान दायक नागरिक बनाता है। बाल मजदूरी को पूरी तरह से रोकने के लिये ढ़ेरों नियम-कानून बनाने के बावजूद भी ये गैर-कानूनी कृत्य दिनों-दिन बढ़ता ही जा रहा है।

किसान मजदूर सेना एक अभियान चलाकर बाल श्रमिकों के भविष्य को सुधारने का प्रयास किया जा रहा है जिससे आने वाले दिनों में हमारा देश बाल श्रम से मुक्त होगा। किसान मजदूर सेना ने अबतक हजारों बाल श्रमिकों को मुक्त करवाकर स्कूल भेजने का कार्य किया है।