श्रीमद्भागवत गीता की 8000 प्रति का निःशुक्ल वितरण किमसे द्वारा प्रारम्भ

किसान मजदूर सेना (किमसे) की गुजरात इकाई द्वारा किया जा रहा है यह समाजिक कार्यक्रम

किसान मजदूर सेना की गुजरात इकाई द्वारा निशुल्क श्रीमद्भागवत गीता का वितरण आज अहमदाबाद के लम्हा वार्ड से प्रारंभ किया गया। इस कार्यक्रम में किसान मजदूर सेना के सैकड़ों पदाधिकारी व स्वयंसेवक उपस्थित रहे।किसान मजदूर सेना राष्ट्रीय स्तर का एक राष्ट्रवादी संगठन है जिसके संस्थापक एवं राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री जय प्रकाश दुबे उर्फ जेपी भैया हैं। यह संगठन राष्ट्र के किसानों के लिए, देश के मजदूरों के लिए, देश के प्राइवेट कर्मचारियों के लिए व राष्ट्र के आम जनमानस के लिए सेवा, सामाजिक सुरक्षा व न्याय सुरक्षा प्रदान करने के लिए कार्य करता है। किसान मजदूर सेना के संगठन मंत्री अंगद सिंह राजपूत ने पत्रकारों से बात करते हुए बताया की हमारा संगठन पूरे भारतवर्ष में सक्रिय है तथा किसान मजदूर सेना किसानों की समस्या, श्रमिकों की समस्या, बाल मजदूरी, प्रशासनिक भ्रष्टाचार, राजनीतिक भ्रष्टाचार, महिलाओं का शोषण, पर्यावरणीय प्रदूषण जैसे मुद्दों पर वर्तमान समय में कार्य कर रहा है। इसी क्रम में अपनी संस्कृति और विरासत को सहेजने हेतु किसान मजदूर सेना ने पूरे गुजरात में 8000 से भी अधिक निशुल्क श्रीमद्भागवत गीता अर्थ सहित पुस्तक का वितरण कार्यक्रम तय किया है जिसके अंतर्गत आज अहमदाबाद के लाभा वार्ड की दर्जनों सोसाइटी में जा जाकर लोगों को निशुल्क श्रीमद्भागवत गीता का पुस्तक दिया गया।

इस कार्यक्रम में संस्थापक एवं राष्ट्रीय अध्यक्ष महोदय उपस्थित रहे। कार्यक्रम में अंगद सिंह राजपूत संगठन मंत्री गुजरात प्रदेश, बिट्टू मल संगठन मंत्री उत्तर प्रदेश, लांबा वार्ड प्रमुख श्री विपुल भाई मेवाड़ा, श्री विजय मिश्रा, श्री दिग्विजय मिश्रा, पंडित त्रिलोकीनाथ, राम कुमार, जगदीश भाई, देव प्रकाश, अरुण शर्मा, जगदीश पाटील, विनोद पुरोहित, विजय भान, रमेश भाई लोहार, मर्यादा बहन पंड्या, गिरीश भाई सोलंकी, सहित अहमदाबाद जिला से के दर्जनों पदाधिकारी उपस्थित रहे।

गुजरात प्रदेश संगठन मंत्री अंगद सिंह राजपूत ने बताया की जब तक 8000 पुस्तकों का वितरण पूर्ण नहीं हो जाता तब तक यहां कार्यक्रम अनवरत अलग अलग दिन, अलग अलग स्थान पर चलता रहेगा। लक्ष्य पूरा होने तक किसान मजदूर सेना के लोग पूरे गुजरात में श्रीमद् भागवत गीता का यह पुस्तक निशुल्क रूप से वितरित किया जाता रहेगा।